ऑपरेटिंग सिस्टम – Operating System

Operating System एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जिसकी मदद से हम अपने कंप्यूटर को चला सकते हैं| जब भी आप कोई सा नया कंप्यूटर ले गए तो उसमें आप सबसे पहले अपने विंडोस 8 या फिर विंडोस 10 को दुकानदार से लोड करवाते होंगे और फिर बाद में उसे घर ले जाते हो। क्योंकि बिना इस सोफ्टवेयर के तो आप कभी अपने कंप्यूटर को ऑन भी नहीं कर सकते।

Operating System एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जिसकी मदद से हम अपने कंप्यूटर को चला सकते हैं| जब भी आप कोई सा नया कंप्यूटर ले गए तो उसमें आप सबसे पहले अपने विंडोस 8 या फिर विंडोस 10 को दुकानदार से लोड करवाते होंगे और फिर बाद में उसे घर ले जाते हो। क्योंकि बिना इस सोफ्टवेयर के तो आप कभी अपने कंप्यूटर को ऑन भी नहीं कर सकते।

 ऑपरेटिंग सिस्टम का कार्य

 Operating System एक बहुत बड़ा सॉफ्टवेयर है इसमें कई सारे प्रबंधन होते हैं :–

  • इनपुट-आउटपुट प्रबंधन = यह इनपुट और आउटपुट दोनों को नियंत्रित रखता है| साथ ही यह भी ध्यान रखता है कि इनपुट और आउटपुट डिवाइस अच्छे से काम कर रहे हैं कि नहीं
  • मेमोरी प्रबंधन = यहां कंप्यूटर की मेमोरी को संचालित रखता है| जैसे की मेमोरी साझा करना और कम से कम मेमोरी का उपयोग करना होता है।
  • प्रक्रिया प्रबंधन = यह चीज इस सॉफ्टवेयर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है | जो किसी प्रक्रिया की योजना का नियंत्रण और प्रदर्शन की गतिविधियों को सक्षम बनाता है।
  • फाइल प्रबंधन = इसका कार्य फाइलों के लिए जगह बनाना सुरक्षित रखना और बैकअप को बनाए रखने का है।

 ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

ऑपरेटिंग सिस्टम के मुख्य प्रकार :–

  • Batch OS = इस में यूजर और कंप्यूटर के बीच कोई सीधा संवाद नहीं होता है| बल्कि इसमें कंप्यूटर ऑपरेटर नाम का एक सॉफ्टवेयर होता है, जो यूजर के दिए गए सभी इंस्ट्रक्शन या निर्देशों को इकट्ठा रखता है।
  • Multi-programming OS = इसमें सीपीयू एक साथ बहुत सारी प्रोसेस को एग्जीक्यूट करता है मतलब सीपीयू का जो प्रोसेसर होता है| मैं इन सब प्रोसेस के बीच में शेयर होता है।
  • Multitasking OS = मल्टीटास्किंग सीपीयू को एक ही समय में कई कार्यों को निष्पादित करने देता है| इसके अंतर्गत सीपीयू विभिन्न प्रोग्राम के बीच स्विच करता रहता है।
  • Distributed OS = डिस्ट्रीब्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम किसी सिस्टम को कई अलग अलग प्रोसेस सर्च के बीच वितरित करने की सुविधा देता है| यह सभी प्रोसेसर आपस में उच्च गति वाले बस इसके उपयोग से सूचनाओं का आदान प्रदान करके संचार करते हैं।
  • Network OS = इस सॉफ्टवेयर में यूजर्स को सभी कंप्यूटर के अस्तित्व की जानकारी होती है तथा कोई भी यूजर किसी कंप्यूटर में लॉगिन कर सकता है| ये फाइलों को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में कॉपी भी कर सकता है।

कौन सा ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड के लिए बेस्ट है।

एंड्राइड कोई फोन नहीं है नाही एप्लीकेशन है| यह एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो लिनक्स कर्नल के ऊपर आधारित हुआ है। अगर मैं इसे आसान भाषा में कहूं तो लिनक्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जिससे कि मुख्यता सरवर और डेक्सटॉप कंप्यूटर में इस्तेमाल होता है| तो एंड्रॉयड बस एक वर्जन है लिनक्स का जिसे की सारे मॉडिफिकेशन के बाद बनाया गया है।

Faq’s

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता हैं ?

ऑपरेटिंग सिस्टम एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जीसकी मदद से हम अपने कंप्यूटर को चला सकते हैं जब भी आप कोई सा नया कंप्यूटर ले गए तो उसमें आप सबसे पहले अपने विंडोस 8 या फिर विंडोस 10 को दुकानदार से लोड करवाते होंगे और फिर बाद में उसे घर ले जाते हो। क्योंकि बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के तो आप कभी अपने कंप्यूटर को ऑन भी नहीं कर सकते।

ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते हैं ?

1. Batch OS
2. Multi-programming OS
3. multitasking OS
4. distributed OS
5. network OS

कौन सा ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड के लिए बेस्ट हैं ?

एंड्राइड कोई फोन नहीं है नाही एप्लीकेशन है यह एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो लिनक्स कर्नल के ऊपर आधारित हुआ है। अगर मैं इसे आसान भाषा में कहूं तो लिनक्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जिससे कि मुख्यता सरवर और डेक्सटॉप कंप्यूटर में इस्तेमाल होता है तो एंड्रॉयड बस एक वर्जन है लिनक्स का जिसे की सारे मॉडिफिकेशन के बाद बनाया गया है।

अन्य पढ़े-

Best top 10 antiviruses for pc

What makes computers fast and powerful?

फ्यूचर इन कॉमर्स – Future in Commerce

RS-CIT Course

अपना इंस्टाग्राम अकाउंट को परमानेंटली डिलीट कैसे करें ?How to delete Instagram Account

यूट्यूब चैनल बनाने के बाद किन-किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए

FUTURE IN AFFILIATE MARKETING

PUBG New State Shortcut – The Easy Way

Leave a Reply